Thursday, 24 July 2014

दोहे

मन चाहा कब होत है, काहे होत उदास,
उस पर सब कुछ छोड़ दे, पूरी होगी आस.
                   ***
मन की मन ने जब करी, पछतावे हर बार,
करता सोच विचार के, उसका है संसार.
                 ***
चलते चलते थक गया, अब तो ले विश्राम,
माया ममता छोड़ कर, ले ले हरि का नाम.
                 ***
किसका ढूंढे आसरा, किस पर कर विश्वास,
सब मतलब के साथ हैं, उस पर रख विश्वास.
                 ***
क्या कुछ लाया साथ में, क्या कुछ लेकर जाय, 
लेखा जोखा कर्म का, साथ तेरे रह जाय.
                ***
जीवन में कीया नहीं, कभी न कोई काम,
कैसे समझेंगे भला, महनत का क्या दाम.
                ***
मन चंचल है पवन सम, जित चाहे उड़ जाय,
संयम की रस्सी बने, तब यह बस में आय.
               ***
धन से कब है मन भरा, कितना भी आ जाय,
जब आवे संतोष धन, सब धन है मिल जाय.
              ***
अपने दुख से सब दुखी, दूजों का दुख देख,
अपना दुख कुछ भी नहीं, उनके दुख को देख.
              ***
...कैलाश शर्मा   

21 comments:

  1. दोहा
    किसका ढूंढे आसरा, किस पर कर विश्वास,
    सब मतलब के साथ हैं, उस पर रख विश्वास
    बेजोड़ अभिव्यक्ति
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. waah anand aa gaya sabhi dohe bahut acche lage . hardik badhai aa. kailash ji

      Delete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (25.07.2014) को "भाई-भाई का भाईचारा " (चर्चा अंक-1685)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्‍छी शिक्षा देते दोहे। छठे छन्‍द में (कीया) और (महनत) को क्रमश: किया व मेहनत कर दें।

    ReplyDelete
  4. प्रेरक दोहे।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर अर्थपूर्ण दोहे.....

    ReplyDelete
  6. जीवंत दोहे राह दिखाते

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर सार्थक दोहे रचना !
    अच्छे दिन आयेंगे !

    ReplyDelete
  8. क्या कुछ लाया साथ में, क्या कुछ लेकर जाय,
    लेखा जोखा कर्म का, साथ तेरे रह जाय.
    ***
    जीवन में कीया नहीं, कभी न कोई काम,
    कैसे समझेंगे भला, महनत का क्या दाम.
    ***
    मन चंचल है पवन सम, जित चाहे उड़ जाय,
    संयम की रस्सी बने, तब यह बस में आय.
    एक एक दोहा एकदम सटीक और बेहतरीन ! बहुत ही ज्यादा पसंद कैलाश शर्मा जी ! अब ये विधा कुछ काम नहीं हो गयी , लोग बहुत कम दोहे लिखते हैं आजकल

    ReplyDelete
  9. आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 26 . 7 . 2014 दिन शनिवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
  10. माया मन्नत कहाँ छोड़ी जाती है इस संसार में ... वो तो इश्वर के बस ही है ...
    लाजवाब दोहे हैं सभी ...

    ReplyDelete
  11. सुंदर और सार्थक दोहे...बधाई

    ReplyDelete
  12. DEKHAN ME CHOTAN LAGE GHAV KARE GAMBHIR

    sudhirsinghmgwa@gmail.com

    MANZIL GROUP SAHITIK MANCH,DELHI

    ReplyDelete