Friday, 31 October 2014

चुनौतियाँ

कठिनाइयाँ नहीं बाधायें राह की,
चुनौतियां देती प्रेरणा और जोश
मंज़िल को पाने की,
लगती हैं चुनौतियाँ कठिन
जब होता सामना उनसे,
लेकिन हो जातीं कितनी छोटी
उन पर विजय के बाद,
चलती गाड़ी से दिखते 
पेड़ की तरह,
लगता विशाल नज़दीक आने पर
लेकिन दिखता कितना छोटा
पीछे छूट जाने पर।


...कैलाश शर्मा 

16 comments:

  1. बहुत प्रेरणादयी पंक्तियाँ कैलाश जी
    मैं आनेवाली अपनी किसी कहानी में ये कविता लूँगा. आपकी अनुमति चाहिए होंगी
    शुक्रिया जी
    आपका अपना
    विजय

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह मेरा सौभाग्य है विजय जी की रचना आपको पसंद आयी....

      Delete
  2. सार्थक, प्रेरक एवं सशक्त रचना !

    ReplyDelete
  3. प्रेरणादायी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  4. Saty kaha aapne chunotiyaan tab tak badi hoti hai jab tak hum unpar vijay prapt nhi kar lete baad me wo choti ho jaati hain ..... Prernadayak abhivyakti ..badhayi .. Subh din !!

    ReplyDelete
  5. सुंदर रचना सर धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )
    आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 3 . 11 . 2014 दिन सोमवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (03-11-2014) को "अपनी मूर्खता पर भी होता है फख्र" (चर्चा मंच-1786) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  7. प्रेरणा देते भाव ... कठिनाइयों का सामना करना शुरू करो तो सब हल हो जाता है ...

    ReplyDelete
  8. सुंदर और प्रेरक पंक्तियाँ...

    ReplyDelete
  9. सार्थक और प्रेरणादायी अभिव्यक्ति.....
    ..

    ReplyDelete
  10. सार्थक अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  11. सुंदर भावपूर्ण पंक्तियाँ..

    ReplyDelete
  12. सरल, सार्थक, प्रेरणादायी!

    ReplyDelete